विष्णु खरे

विष्णु जी नहीं रहे. हिंदी साहित्य संसार ने एक ऐसा बौद्धिक खो दिया, जिसने ‘बिगाड़ के डर से ईमान’ की बात कहने से कभी भी परहेज नहीं किया. झूठ के घटाटोप से घिरी हमारी दुनिया में ऐसे लोग बहुत कम रह गए हैं. निर्मम आलोचना की यह धार बगैर गहरी पक्षधरता और ईमानदारी के सम्भव नहीं हो सकती थी.

बनाव और मुँहदेखी उनकी जिंदगी से खारिज थे. चुनौतियों का सामना वे हमेशा सामने से करते थे. अडिग-अविचल प्रतिबद्धता, धर्मनिरपेक्ष-प्रगतिशील-जनवादी दृष्टि और विभिन्न मोर्चों पर संघर्ष करने का अप्रतिम साहस हमारे लिए उनकी विरासत का एक हिस्सा है.

गद्य में कविता सम्भव करने की जो अनूठी कला रघुवीर सहाय ने विकसित की थी, विष्णु जी उसे अगले मुकाम तक ले गए. निरी गद्यात्मक होती जाती दुनिया में गड़कर अपनी समकालीन कविता सम्भव करने का कठिन काम उन्होंने सम्भव किया. वे अपनी लम्बी कविताओं के सहारे गहरी बेचैनी की दुनिया पाठक के लिए खोलते हैं, मुक्तिबोध उनके प्रिय कवि यों ही न थे. तमाम मिथकों और कथाओं को काव्य के रसायन में घोलकर वे आधुनातन कर सकने की सिफत रखने वाले अनूठे कवि थे.

नई पीढ़ी के बहुतेरे कवियों ने विष्णु खरे से सीखा. ‘खुद अपनी आँख से’, ‘सबकी आवाज के परदे में’, ‘पिछला बाकी’, ‘लालटेन जलाना’, ‘पाठांतर’ और ‘काल और अवधी के दरम्यान’ जैसे संग्रह हमेशा ही नई जमीन तोड़ने वाले इस कवि को हमारे बीच जिंदा रखेंगे. उन्हीं के शब्दों मेंः ‘हमें बिखेरना होगा उनके आईनों में से/गिरता मायावी प्रकाश/उनकी प्रसिद्ध राजधानियों को/अपनी भाषा के प्रक्षेपास्त्रों से उजाड़ना होगा’.

वे विश्व और भारतीय कविता के बीच जीवंत पुल थे. जर्मन कवियों की कविताओं का उनका अनुवाद ‘हम चीखते क्यों नहीं’ उनके उत्कृष्ट अनुवाद का नमूना ही नहीं, उनके चयन के मानकों को भी दिखाता है. इलियट, चेस्वाव मिवोश, अत्तिला योजेफ और बिस्लावा शिंबोस्र्का जैसे कवि उनकी मार्फत हिंदी पाठकों तक पहुँचे. इन दिनों संभवतः वे मुक्तिबोध के अनुवाद में मुब्तिला थे. अनुवाद की मार्फत हिंदी के दो यशस्वी कवियों का यह साम्यवाद देखना सचमुच रोचक होता, पर...

संस्कृति के अन्यान्य क्षेत्रों में भी उनका गहरा दखल था. पत्रकार, सम्पादक, अनुवादक, फिल्म समीक्षक, आलोचक, कवि, टिप्पणीकार जैसी कई भूमिकाओं में वे लगातार आवाजाही करते रहे. उनकी आलोचना की पुस्तक ‘आलोचना की पहली किताब’ मूर्तिभंजक तेवर के लिए हमेशा याद की जाएगी. युवाओं और नए विचारों के प्रति उनका लगाव अद्भुत था और  गुरुडम से अथक विरोध. लेखक की सामाजिक जिम्मेदारी उनके लिए बेहद अहम थी.

विष्णु जी का जाना इस भीषण समय में बौद्धिक हिरावल के एक साथी को खो देने जैसा है.

(उन्हें यह श्रद्धांजलि जन संस्कृति मंच की ओर से है)

vishnu khare
वर्षः 13
अंकः 7